रामायण

रामायण महाकाव्य के बारे में
1. रामायण की परिचय क्या है ?
ऋषि वाल्मीकि द्वारा लिखी गई ‘रामायण’ एवं तुलसीदास रचित ‘रामचरितमानस’ अयोध्या पति दशरथ नंदन श्री राम की जीवन कथा हैं |
राम जो कि भगवान विष्णु का ही एक रूप हैं, अत्यधिक गुणवान एवं प्रतिभाशाली थे. राजा दशरथ की तीन रानियाँ थी जिनका नाम कौशल्या, सुमित्रा और कैकेयी था
राजा दशरथ के तीनों रानियों से चार अत्यधिक रूपवान एवं गुणवान पुत्रों का जन्म हुआ जिन्हें राम, लक्ष्मण, भरत व शत्रुघ्न नामों से जाना गया. राम, माता कौशल्या के पुत्र थे |
भरत, माता कैकेयी के एवं लक्ष्मण व शत्रुघ्न, माता सुमित्रा के पुत्र थे |
राम का विवाह स्वयंवर में सीता के साथ सुनिश्चित हुआ. राम भगवान ने समस्त वीर योद्धाओं एवं राजाओं के सामने शिव धनुष को तोड़कर माता सीता से विवाह किया |


♥ रामायण लेख के मुख्य बिंदुओ... ram hidusim god of ramayan
1. रामायण की परिचय क्या है ?
2. रामायण में कुल कितने कांड है ?
3. बाल कांड की जानकारियाँ क्या है ?
4. अयोध्या कांड की जानकारियाँ क्या है ?
5. अरण्य कांड की जानकारियाँ क्या है ?
6. किष्किन्धा कांड की जानकारियाँ क्या है ?
7. सुन्दर कांड की जानकारियाँ क्या है ?
8. लंका कांड की जानकारियाँ क्या है ?
9. उत्तर कांड की जानकारियाँ क्या है ?

2. रामायण में कुल कितने कांड है ?


समस्त रामायण को 7 कांडो में विभक्त किया गया हैं. इन 7 कांडो में भगवान राम के जीवन की सम्पूर्ण शौर्य गाथाओं का वर्णन किया गया हैं | जिसके बारे में आप एक - एक कर बारी - बारी से जानेगे, जिनका वर्णन यहाँ पर किया गया है |

3. बाल कांड की जानकारियाँ क्या है ?


राम भगवान का जन्म चैत्र मास की नवमी के दिन अयोध्या में राजा दशरथ और माता कौशल्या के यहाँ हुआ था |
साथ ही में माता कैकेयी ने भरत और माता सुमित्रा ने लक्ष्मण और शत्रुघ्न को जन्म दिया |
कुछ वर्ष पश्चात गुरु वशिष्ठ के आश्रम में उन्होंने शिक्षा दीक्षा प्राप्त की. बाद में गुरु विश्वामित्र के यज्ञ की रक्षा के लिये श्रीराम ने ताड़का, सुबाहु आदि राक्षसों का वध किया |
और देवी अहिल्या को शाप मुक्त किया. जनकपुर में श्रीराम ने माता सीता के स्वयंवर में भाग लिया और शिव धनुष को तोड़कर सीता माता से विवाह किया |

4. अयोध्या कांड की जानकारियाँ क्या है ?


राम-सीता विवाह के उपरांत राजा दशरथ ने राम के राज्याभिषेक की घोषणा की. परन्तु तभी मंथरा द्वारा भड़का दिए |
जाने के कारण रानी कैकेयी ने राजा दशरथ से उनके द्वारा दिए गए उन दो वचनों को पूरा करने को कहा जिन्हें एक बार रानी कैकेयी द्वारा राजा दशरथ के जीवन की रक्षा करने के प्रतिफल के रूप में राजा दशरथ ने कैकेयी को दिया था |
मंथरा के कहे अनुसार कैअनेक ने दो वचन मांगे, एक राम को 14 वर्ष का वनवास और दूसरा भरत का राज्याभिषेक |
राजा दशरथ द्वारा दिए गए वचन की पालना करते हुए श्रीराम, माता सीता व लक्ष्मण सहित वनवास के लिये निकल पड़े |
वहीं दूसरी ओर राजा जनक की राम के वियोग में और श्रवण के माता पिता द्वारा दिए गए शाप के प्रभाव से मृत्यु हो गई |
भरत राम को मनाने वन की ओर चले एवं राम भरत मिलाप हुआ. भरत ने राम से अयोध्या लौट चलने को कहा परन्तु राम ने मना कर दिया |
एवं भरत को अपनी चरण पादुकाएँ समर्पित की. भरत पादुकाएँ लेकर अयोध्या लौट आए व तपस्वी के भेष में अयोध्या से बाहर कुटी बनाकर रहने लगे |

5. अरण्य कांड की जानकारियाँ क्या है ?


वन में भगवान राम, लक्ष्मण एवं सीता ऋषि अत्रि व उनकी पत्नी अनुसुइया से मिले. इसके पश्चात रावण द्वारा सीता माता का हरण कर लिया गया |
श्रीराम ने मुनि अगस्त्य, मुनि सुतिष्ण पर कृपा की एवं जटायु का उद्धार किया | सीता के वियोग में राम वन-वन भटकने लगे इसी बीच राम ने माता शबरी के झूठे बेर खाये और उनका उद्धार किया |

6. किष्किन्धा कांड की जानकारियाँ क्या है ?


सीता को खोजते समय श्रीराम की मुलाकात सुग्रीव, हनुमान एवं समस्त वानर सेना से हुई |
भगवन ने सुग्रीव की सहायता के लिये बालि का उद्धार किया और तब सुग्रीव और उनकी सेना की मदद से सीता माता की खोज में निकल पड़े |

7. सुन्दर कांड की जानकारियाँ क्या है ?


सीता माता की खोज में हनुमान लंका गए. वहाँ सीता माता से मिले. इसके पश्चात् हनुमान ने अपनी पूंछ से लंका में आग लगा दी |
रावण के भ्राता विभीषण राम की शरण में आ गए. राम ने समुद्र का घमंड शांत किया |
और तब हनुमान व अन्य वानरों ने समुद्र में राम नाम के पत्थर तैराकर समुद्र पर सेतु का निर्माण किया |


8. लंका कांड की जानकारियाँ क्या है ?


श्रीराम व उनकी सेना सेतुमार्ग से लंका पहुंचे और राम ने अंगद को दूत बनाकर रावण के समक्ष संधि के लिये भेजा. परन्तु रावण ने अपने घमंड के आगे राम की आज्ञा नहीं मानी |
तब युद्ध की घोषणा की गई. भयावह युद्ध प्रारम्भ हो गया. रावण द्वारा अपने समस्त वीर एवं बलशाली योद्धाओं को रणभूमि में भेजा गया |
परन्तु सभी राक्षसों को राम व उनकी सेना ने परास्त कर दिया. लक्ष्मण व मेघनाथ के युद्ध में लक्ष्मण को बाण लगा. उनके उपचार के लिये हनुमान संजीवनी बूटी ले आए |
तब लक्ष्मण ने मेघनाथ का एवं राम ने कुम्भकरण जैसे राक्षसों का वध किया |
तत्पश्चात श्रीराम एवं रावण के मध्य भीषण युद्ध हुआ. युद्ध में राम भगवान ने रावण को परास्त कर विजय प्राप्त की |
तब विभीषण का राज्याभिषेक हुआ. सीता माता को लंका से लाया गया एवं अपनी पवित्रता साबित करने के लिये उन्हें अग्नि परीक्षा देनी पड़ी
अंत में पुष्पक विमान द्वारा श्रीराम, माँ सीता व लक्ष्मण, वानरों सहित अयोध्या पहुंच गए |
रामानंद सागर का मुख्या टीवी प्रोग्राम इसी काण्ड के साथ समाप्त हो गया था. परन्तु रामायण में एक काण्ड और भी हैं,
उत्तर काण्ड, जिसे तत्पश्चात एक और टीवी प्रोग्राम ‘उत्तर रामायण’ के नाम से दर्शाया गया था |

8. उत्तर कांड की जानकारियाँ क्या है ?


भगवान् राम के अयोध्या पहुंचने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों द्वारा दीपोत्सव का आयोजन किया गया. इसके पश्चात् बड़े हर्ष के साथ सभी ने श्रीराम का राज्याभिषेक किया |
इन 7 कांडो में राम के जीवन का सम्पूर्ण चरित्र चित्रण किया गया हैं. इसके बाद सीता माता को लंकापति रावण द्वारा हर लिये जाने के कारण उनपर समस्त अयोध्यावासियों द्वारा लांछन लगाए गए
तब श्रीराम ने उन्हें वन में भेज दिया. सीता माता ऋषि वाल्मीकि के आश्रम में रहने लगी | वहाँ उनके दो चन्द्रमुख वाले शिशुओं का जन्म हुआ
उनका नाम लव एवं कुश रखा गया | वे अपने पिता राम के समान अत्यधिक पराक्रमी व शौर्यवान थे. उन्होंने अश्वमेघ यज्ञ जीता |
राम के दरबार में उपस्थित हुए व अपने मधुर शब्दों में राम-सीता की जीवन गाथा सुनाई. तब ऋषि वाल्मीकि ने राम को बताया कि वे दोनों उन्हीं के पुत्र हैं
तब भगवान राम को अपनी गलती पर पछतावा हुआ. अंत में सीता ने धरती माँ से अनुरोध किया कि वे उन्हें अपनी शरण में ले लें. तब धरती फटी एवं माता सीता उसमें समा गयीं |

इस तरह से वाल्मीकि कृत रामायण 7 कांडो में पूर्ण हुई. रामायण हिन्दू धर्म का सबसे पवित्र ग्रंथ माना गया हैं जो हिन्दुओं के लिये प्रेरणा स्त्रोत हैं. हिन्दू धर्म में रामायण को मर्यादापुरुषोत्तम राम का स्वरुप माना गया हैं |

अन्य प्रमुख महाकाव्य रघुवंश बाइबल क़ुरआन कुमारसंभव शिशुपालवध नैषधीय चरित किरातार्जुनीयम्
बुदचरित महाकाव्य »»
w G P

You may like related post:

पुराण के बारे में जाने रामायण महाकाव्य के बारे में जाने बुदचरित महाकाव्य के बारे में जाने महाभारत महाकाव्य के बारे में जाने