YOUR SELECTED ARTICLE IS

Learn online Tally

tally logo आज के इस लेखके मुख्य बिंदुये...
1. What is Account ?
2. Importance of Accounting ?
3. Some Words which is used in Accounting ?
4. type and Rules of Accounting ?
5. Importance of Tally ?
6. New features of Tally Erp .9

1. What is Account ?

Accounting यह एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें Business की आर्थिक जानकारी को समझना, Records करना, सारांश निकालना और Report बनाया जाता है |
जिससे Financial Statements के रूप में निर्णय लेने में आसानी होती है।

2. Importance of Accounting ?

Accounting के बहुत से महत्व है, जिनमे से कुछ इस प्रकार से है ..
tally software icon 1. Accounting से हमे किसी विशेष समय में लाभ या हानी हुआ है यह समझ सकते हैं।
2. हम Business के financial position को समझ सकते हैं |
• Business में कितनी मूलधन है।
• Business में हैं कितनी संपत्ति है।
• Business पर कितना ऋण है।
3. इसके अलावा, हम accounting रखने से Business के लाभ या हानि के कारणों को समझ सकते हैं।
ऊपर दिए गयें फायदों से हमें आसानी से यह समझ में आता है की Accounting Business की आत्मा होती है।

3. Some Words which is used in Accounting ?

अगर आप Accounting सिख रहे है तो उससे पहले आपको कुछ ऐसे शब्द के बारे में जानने होंगे जो बार - बार प्रयोग किये जाते है...
1. Goods:- माल को Business में नियमित और मुख्य रूप से खरीदा और बेचा जाता हैं। उदाहरण के लिए – एक किराना मॉल के सारा सामान Goods कहलाता हैं। फायदा या लाभ किसी भी परिस्थितियों में माल की खरीद और माल की बिक्री पर निर्भर करता है |
2. Assets:- Assets कीमती चीजें होती है, जो Business के लिए आवश्यक होती है और Business की संपत्तीs होती है। उदाहरण के लिए- बिल्डीं ग, वेइकल, मशीनरी, फर्नीचर ।
3. Liabilities:- Liabilities दुसरों द्वारा Business को दि जाती है है। उदाहरण के लिए – बैंक से लिया गया Loan, Credit पर माल की खरीद ।
4. Capital:- Capital याने पूंजी जो Business के मालिक द्वारा किया गया निवेश होता है ।
यह Capital कैश, गुडस् या Assets के रूप में होता है ।
जब की यह Capital Business के मालिक द्वारा इन्वेस्ट किया गया है, तो Business के अनुसार यह Capital भी एक Liabilities होती है |
5. Debtor:- जिससें Business को निश्चित राशि लेनी होती है उसे Debtor कहा जाता है |
6. Creditor:- जिन्हे हमारे Business को निश्चित राशि देनी होती है है उन्हे Creditor कहा जाता है ।
7. Business Transaction:- एक वित्तीय घटना है, जो Business से संबंधित है |
और जिसका प्रभाव कंपनी की वित्तीय स्थिति पर पडता हैं। उदाहरण के लिए माल की खरीद, वेतन, Credit पर माल को बेचना |
8. Cash Transaction:- जो Transaction नकदी में किए जाते है उन्हेद Cash Transaction कहा जाता है ।
9. Credit Transaction:- जो Transaction Credit पर किए जाते है उन्हे Credit Transaction कहा जाता है ।
10. Account:- Account किसी Transaction का Statements होता है, जो किसी Assets, Liabilities, आमदनी या खर्चे को प्रभावित करता है |
11. Ledger:- Ledger एक किताब होता है जिसमें स्वय की, वास्तव या अपने नजदीकी के सभी Account होते है, जिनकी Entry Gernal या सहायक पुस्तीपका में होती है|

4. type and Rules of Accounting ?

खाता मुख्य रूप से तिन प्रकार के होते है...
1. Personal Accounts:-सभी व्यक्ति, Socity, Trust Bank और कंपनियों के खाते Personal Account होते हैं । उदाहरण के लिए – Niraj A/c, Sanjay Sales A/c, Manish Traders A/c
2. Real Accounts:-Real Account में सभी Assets और Goods Account शामिल है। जैसे – Cash A/c, Tender a/c, Project A/c.
3 Nominal Accounts:-Business से संबंधित सभी आय और खर्च Nominal Account के अंतर्गत आते है । उदाहरन के तौर पर – Salary A/c, Rent A/c, Commission A/c, Advertisement और भी बहुत कुछ |

Transaction करते समय, हमें Debit या Credit साइड का फैसला करना होता है। इसके नियम हैं...
Personal Accounts:- Debit : The Receiver or Debtor Credit : The Giver or Creditor (Always remember).
Real Accounts: Debit:- What comes in Credit : What goes out (Always remember).
Nominal Accounts: Debit:- All Expenses & Losses Credit : All Incomes & Gains (Always remember).

Double Entry System of Book Keeping...
प्रत्येक Transaction व्यापर पर दो तरीके से प्रभावित करता है । उदाहरण के लिए,
Goods cash में खरीदा – इस Transaction में Goods Business मे आ रहा है लेकिन उसी समय Business से cash बाहर जा रही है |
Goods Credit पर दत्ताब Traders को बेचा – इस Transaction मे Goods Business से बाहर जा रहा हैं अम्बानी उसी समय दत्ता Traders हमारे कारोबार का देनदार हो जाता है |
Double Entry System के अनुसार ऐसे सभी Business Transaction को अकाउंट मे Records करते समय इसके दो पहलू होते है Debit aspect (receiving) और Credit aspect (giving).

5. Importance of Tally ?

Tally बहुत ही तेजी से और सुचारू रूप से हमारे सभी कार्यो को करने में सक्षम है |
इसके बेहतरीन Features हमारे कार्य को जल्द - से जल्द और बिना त्रुटीयों के करने में महारत हासिल कर चूका है |
क्योंकि आज के समय या Software लगभग सभी दुकानों , मॉल , एव अन्य जगह पर इस्तेमाल होने लगे है, जहाँ व्यापर के क्षेत्र में मोटे - मोटे कॉपी में Record को संग्रह किया जाता था,
उसके स्थान पर अब Tally ने ले लिया है |
और मैं आपको बता देना चाहता हूँ, की यह बिलकुल मुफ्त में मौजूद है,
और इसे आप अपने System में आसानी से और तेजी के साथ Install कर सकते है |
इसका इस्तेमाल करना भी बहुत ही आसान है, जिसके वजह से यह और ही शक्तिशाली और लोकप्रिय Software बन जाता है |
आज के समय में Tally के नये अवतार में Tally Erp .9 आ चूका है, जो की Latest features से सुस्जित है | इसके नये features में Remote Access एक महवपूर्ण और खास Feature है |
इसकी मदद से आप कही से भी काम कर सकते है | क्यों है, न शानदार ...
और यह audit और compliance Service, Integrated Support and Security Management प्रदान करता है |
इसके शक्तिशाली Features और Speed और Tally Erp .9 की शक्ति और भी बढ़ा देती है |
MIS, Multi-lingual, Data Synchronization और Remote की क्षमता आपके Business की प्रक्रिया को और भी आसान करता है,
और काम के दबाव को कम करता है |

6. New features of Tally Erp .9

• Remote Access :- इसकी मदद से आप ID बनाकर आप कही से भी Access कर काम कर सकते है |
• NET :- Tally.NET डिफ़ॉल्ट रूप से अनुकूल माहौल बनाता है | जिससे की आप internet के सेवाओं का लाभ उठा सके |
जैसे की इसके मुख्य बिन्दु को आप देख सकते है ..
• Remote user
• Remote Access
• Remote Center
• Support Center
• Data Synchronization
• Simplified Installation process
• Product Upgrade and update
tally software
Continue Reading »»
w G P

You may like related post:

Course OS DTP SAD DCA ADCA ADFA DBMS INTERNET MULTIMEDIA